Bihar

ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने पर नहीं बच पायेंगे, 1 जुलाई से नयी व्यवस्था

राज्य में सड़क सुरक्षा नियमों को प्रभावी तरीके से और सख्ती से लागू करने के लिए अब सभी नगर निगम स्तर पर भी हैंडहेल्ड डिवाइस से ई चालान की प्रक्रिया शुरू होगी। इसके तहत सभी ट्रैफिक थानों के ट्रैफिक डीएसपी, सब इंस्पेक्टर को हैंड हेल्ड डिवाइस दिया जाएगा।
इसके बाद सभी ट्रैफिक थानों में मैनुअली चालान की प्रक्रिया पूरी से बंद हो जाएगा और सिर्फ हैंड हेल्ड डिवाइस (एचएचडी) से ही ई चालाना काटा जाएगा। यह जानकारी राज्य के परिवहन सचिव संजय अग्रवाल ने दी है। 

सभी थानों में हेंड हेल्ड डिवाइस
श्री अग्रवाल ने बताया कि राज्य में सड़क सुरक्षा नियमों को प्रभावी तरीके से लागू करने एवं सड़क सुरक्षा नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों को ऑन स्पॉट ई चालान काटा जाएगा। 
अब तक जिलों के सभी डीटीओ, एमवीआई, ईएसआई और पटना में ट्रैफिक पुलिस को हैंड हेल्ड डिवाइस दिया गया था। लेकिन अब ट्रैफिक थानों के डीएसपी को हैंड हेल्ड देने की कार्रवाई की जा रही है।

पिछले रिकॉर्ड डेटाबेस में सेव होंगे
परिवहन सचिव ने बताया कि पटना में हैंड हेल्ड के उपयोग के काफी सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं। डिवाइस में ट्रैफिक उल्लंघनकर्ता के फोटो खींचने की भी व्यवस्था है। इसके उपयोग से पारदर्शिता बढ़ी है। साथ ही फर्जी चालान की शिकायतें समाप्त हुई है। जुर्माना होते ही मोबाइल पर मैसेज आने से लोगों में कानून के प्रति आदर और सम्मान भी बढ़ा है।

हैंड हेल्ड डिवाइस में वाहन का नंबर डालने के बाद वाहन चालक/वाहन मालिक का पूरा डिटेल्स आ जाएगा। जुर्माने की राशि जमा नहीं करने की स्थिति में वाहन का ट्रांसर्फर, फिटनेस आदि कराते समय जानकारी मिल जाएगी और जब तक जुर्माने की राशि जमा नहीं करेंगे आगे का कार्य नहीं करा सकेंगे। इससे आदतन उल्लंघनकर्ताओं पर लगाम लगाया जा सकेगा। 

संजय अग्रवाल ने बताया कि हैंड हेल्ड डिवाइस के उपयोग से सड़क सुरक्षा नियमों का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों के सारे अपराध एक जगह जमा होते जाते हैं तथा बार-बार अपराध करने वाले व्यक्तियों के लाइसेंस रद्द करने एवं 2 गुना फाइन लगाने की भी कार्रवाई की जा रही है।इससे पूर्व यह पता नहीं चलता था कि उल्लंघनकर्ता द्वारा पूर्व में भी कोई अपराध किया गया है या नहीं.

Tags

Koshi Live Team

Koshilive is the first online digital magazine started in Saharsa years ago we cover special report, Breaking news from Saharsa, Supaul, Madhepura and nearby.

Related Articles

Back to top button
Close