Biharदेश-विदेशविशेष खबर

‘टिकटोक था कोठे जैसा, युवा करते थे मुजरा’

कल सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय भारत सरकार द्वारा टिक टोक सहित कुल 59 एप्प को भारत में बैन कर दिया गया. जिसमें टिकटोक से मिलता जुलता और भी विडिओ मेकिंग एप्प भी शामिल हैं. यह फैसला भारत चीन तनाव के तहत डेटा और गोपनीयता के संवेदनशील मुद्दों के कारण लिया गया.

इस फैसले से जहाँ टिकटोकर समुदाय में भरी नाराजगी है और एक तरह से वे बेरोजगार से हो चुके हैं. वहीँ दूसरी ओर समाज का प्रबुद्ध वर्ग इस फैसले का स्वागत कर रहे हैं. अन्य सोशल मिडिया प्लेटफोर्म जैसे ट्विटर और फेसबुक पर लोग सरकार के फैसले के समर्थन में पोस्ट लिख रहे हैं.

बीमार होती भारत की युवा शक्ति

लोगों ने कहा है कि सोशल मिडिया के नाम पर चीन द्वारा डेवलप किया गया टिकटोक और अन्य एप्प बिलकुल ही घटिया हैं. आज के युवा अजीबो गरीब हरकत कर के वीडियो बनाते हैं और उसे मनोरंजन का नाम देते हैं. जो कि समय की बर्बादी है, इन्टरनेट डाटा की बर्बादी है, स्वास्थ्य की बर्बादी है, यह आजके युवाओं के प्रतिभा और productivity को बर्बाद कर रही है.
लोगों ने व्यंगात्मक तरीके से कहा कि यह एक तरह से मुजरे जैसा था और टिकटोक कोठे जैसा था जिसमें सभ्यता और सरोकार से कोई मेल नहीं था. जब जैसा मन किया वैसी हरकत कर डाली और टिकटोक पर डाल दिया. लोगों का कहना है कि वास्तव में इस तरह के एप्प युवाओं को अन्दर से खोखला कर रहे हैं. और भारत की युवा शक्ति बीमार होती जा रही है.

Carryminati से हुआ था टिकटोकर का टकराव

बराबर टिक टोक और टिकटोकर को रोस्ट करने के कारन चर्चा में रहने वाले युट्यूबर Carryminati के फैन्स भी खासे उत्साहित हैं. हाल ही में वे टिक टोक रोस्टिंग के लिए काफी विवाद में रहे हैं. लेकिन पुरे देश से काफी लोग उनके समर्थन में भी आये थे.

चीन के बयान

बहरहाल भारत में टिक टॉक सहित 59 चीनी एप्स को प्रतिबंधित करने के बाद चीन की तरफ मंगलवार सुबह इस पर प्रतिक्रिया सामने आई है। पाबंदी से तिलमिलाया चीन अब अंतरराष्ट्रीय कानूनों का हवाला देने लगा है। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा कि हम इससे चिंतित हैं और स्थिति का आकलन कर रहे हैं।

इससे पहले भी टिकटोक हुआ था बैन

इसके साथ ही टिकटॉक ने कहा कि उसने चीनी सरकार समेत किसी भी विदेशी सरकार के साथ यूजर्स का डाटा शेयर नहीं किया है और न ही भविष्य में वह ऐसा करेगी। टिकटॉक ने कहा, ‘हमें जवाब देने और स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने के लिए संबंधित सरकारी हितधारकों के साथ मिलने के लिए आमंत्रित किया गया है। टिकटॉक भारतीय कानून के तहत सभी डाटा गोपनीयता और सुरक्षा आवश्यकताओं का पालन करता है।’

फ़िलहाल टिकटोक के ड्रामेबाज अब यूट्यूब और फेसबुक पर आ कर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं.

Tags

Koshi Live Team

Koshilive is the first online digital magazine started in Saharsa years ago we cover special report, Breaking news from Saharsa, Supaul, Madhepura and nearby.

Related Articles

Back to top button
Close