Bihar

नीतीश कैबिनेट की बैठक में 9 एजेंडे पर लगी मोहर और खराब परफॉर्मेंस पर 6 कर्मियों को नीतीश सरकार ने किया रिटायर -नन गैजेटेड कर्मियों के तवादले मे होगी डीएम की महत्वपूर्ण भूमिका

धीरज झा की रिपोर्ट

पटना : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई बिहार कैबिनेट की बैठक में 9 एजेंडे पर मुहर लगाई गई। इसके तहत सरकार ने बड़ा कदम उठाते हुए 50 साल से अधिक उम्र वाले कर्मियों को जबरन रिटायर करने का निर्णय लिया है। इसके तहत पहली कार्रवाई भी की गई और भवन निर्माण विभाग के कर्मियों को सेवानिवृत्ति दे दी गई है।


जिन 6 लोगों को सेवानिवृत्ति दी गई है इनमें पटना प्रमंडल 2 के योजना कार्यपालक अभियंता राकेश कुमार, पटना संरचना अंचल के कार्यपालक कुमार राकेश, भवन निरूपनम अंचल दो के कार्यपालक अभियंता सतीश कुमार, सीतामढ़ी अंचल के सहायक अभियंता रवि प्रकाश, गया भवन प्रमंडल के कनीय अभियंता श्याम सुंदर शर्मा और दरभंगा के कनीय अभियंता प्रवीण पंडित और भवन निर्माण मुजफ्फरपुर के सहायक विद्युत अभियंता दीपक कुमार के नाम शामिल है।

इन सब को सरकारी कामकाज में खराब परफॉर्मेंस करने के आरोप में सेवानिवृत्ति दे दी गई है। इसके अलावा भी कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए हैं। जिसके तहत 230 पदों का सृजन किया गया है। नालंदा ओपन विश्वविद्यालय में एक सौ राजकीय कॉलेज एवं अस्पताल पटना में 130 पदों का सृजन किया गया है। नालंदा ओपन विश्वविद्यालय में 8 प्राध्यापक, 28 सह प्राध्यापक, 54 सहायक प्राध्यापक और 10 मल्टी टास्किंग पद का सृजन हुआ है।


इसके अलावा समग्र शिक्षा अभियान के लिए 1.2 अरब रुपये मंजूर किये गए हैं। तत्काल 40 करोड़ खर्च किए जा सकेंगे।


इसके अलावा तिब्बी कॉलेज में 100 सीटों पर एडमिशन को भी कैबिनेट ने मंजूरी दी है। कॉलेज में 30 पद सृजित भी किए गए हैं जिन्हें जल्द ही भरा जाएगा। अन्य फैसले में non-gazetted कर्मियों के तबादले की प्रक्रिया में सामान्य प्रशासन विभाग के संशोधन करते हुए कहा कि अगर जिलाधिकारी से अग्रेषित आवेदनों पर ही विचार किया जाएगा। सीधे सामान्य प्रशासन को दिए गए आवेदनों पर कार्रवाई नहीं की जाएगी ऐसे आवेदनों को रिजेक्ट कर दिया जाएगा। इसके साथ ही अंतर जिला तबादला के रिक्वेस्ट को भी रद्द किया जाएगा।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close