Bihar

50 हजार का इनामी कुख्यात अपराधी बमबम महतो पुलिस के हत्थे चढ़ा

धीरज झा (बेगुसराय)
अपराधियों के पीछे पड़ी स्पेशल टास्क फोर्स एसटीएफ एवं बेगूसराय पुलिस की टीम को बड़ी सफलता हाथ लगी है। एसटीएफ बेगूसराय पुलिस की टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर घेराबंदी कर नावकोठी थाना क्षेत्र के समसा निवासी कुख्यात अपराधी बमबम महतों को रविवार की देर रात गिरफ्तार किया है।

हत्या समेत 25 से अधिक मामलों के आरोपी बमबम महतों की गिरफ्तारी के लिए 50 हजार का इनाम घोषित कर रखा था। पुलिस ने इसके पास से 315 बोर का एक रायफल, एक लोडेड मास्केट, एक लोडेड देसी पिस्तौल तथा पांच गोली बरामद किया है। चर्चा है कि बमबम के साथ उसके दो साथियों को भी गिरफ्तार किया गया है।जानकारी के अनुसार सरस्वती पूजा प्रतिमा विसर्जन के दिन सरेआम समसा मुखिया हेमा मौर्य की हुई हत्या के बाद से ही पुलिस बमबम महतों की तलाश कर रही थी। इसके लिए विशेष टीम का गठन किया गया था तथा लगातार छापेमारी की जा रही थी, लेकिन वह हर बार बच निकलता था।

रविवार की रात एसटीएफ और बेगूसराय पुलिस को सूचना मिली थी कि बमबम साहेबपुर कमाल थाना क्षेत्र के चमनटोला के आसपास अपने साथियों के पास छुपा हुआ है तथा किसी बड़ी वारदात को अंजाम दे सकता है। इसके बाद तुरंत एक्शन में आई एसटीएफ की टीम और बेगूसराय पुलिस ने बमबम गिरोह को घेर लिया। इस दौरान उसने भागने की काफी कोशिश की, लेकिन कोई मौका नहीं मिला और एसटीएफ और बेगूसराय पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। बमबम महतों की गिरफ्तारी से कई बड़े कांडों का खुलासा हुआ है।

बमबम अपने गिरोह के साथ वारदात को अंजाम देकर सीमावर्ती खगड़िया जिला के फरकिया और दियारा इलाके में छुप जाता था, जिसके कारण पुलिस उस तक नहीं पहुंच पाती थी। लेकिन इस बार मिली पक्की सूचना पर एसटीएफ और बेगूसराय पुलिस ने तुरंत एक्शन लिया और गिरफ्तारी हो गई।

बता दें कि बेगूसराय जिला के नावकोठी थाना क्षेत्र का समसा गांव कई दशक से आपराधिक गिरोह के वर्चस्व का घात-प्रतिघात झेल रहा है। बीते करीब 37 सालों में यहां 30 से अधिक लोगों की हत्याएं हो चुकी है, अपराधी केेे डर से दर्जनों लोगों ने गांव मेंं रहना छोड़ दिया। बूढ़ी गंडक नदी के पार की दो सौ एकड़ सरकारी जमीन और नदी के जलकर पर कब्जा करने को लेकर 1983 में यहां गैंगवार की शुरुआत हुई थी। अवनी महतों द्वारा अपने प्रतिद्वंदी बमबम महतों के पिता की हत्या से इसकी शुरुआत हुई। वर्चस्व की जंग में बमबम महतों के पिता होरिल महतों की गोली मारकर हत्या करने के बाद उसका सर काट कर पूरे गांव में घुमाया गया था। तभी से इस जंग की शुरुआत हुई और कोई साल ऐसा नहीं बचा जब यहां गैंगवार और हत्या नहीं हुआ हो।

वहीं एसपी अवकाश कुमार ने बताया कि बमबम महतो पर कई संगीत मामला दर्ज है और फिलहाल में ही कई वारदात को अंजाम दिया खासकर के चर्चित हेमा मुखिया कांड के मुख्य आरोपी है। इस अपराधी को बहुत दिनों से तलाक था इस पर 50 हजार का इनाम भी रखा गया था। जिसमें यह टॉप 10 के अपराधी थे। इस गिरफ्तारी के बाद बेगूसराय पुलिस राहत की सांस ली है ।

Tags

Koshi Live Team

Koshilive is the first online digital magazine started in Saharsa years ago we cover special report, Breaking news from Saharsa, Supaul, Madhepura and nearby.

Related Articles

Back to top button
Close